Manisha Singh Raghav

Just another weblog

66 Posts

91 comments

Manisha Singh Raghav


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

यूँ हुई हिंदी सम्मानित ( सत्य घटना )

Posted On: 17 Sep, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

social issues में

0 Comment

एक तलाश अधूरी सी

Posted On: 15 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

3 Comments

ये कहाँ आ गए हम

Posted On: 13 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

1 Comment

मैं और मेरी सौत — इ

Posted On: 25 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

1 Comment

प्रतिमाओं पर होती सियासत

Posted On: 17 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

3 Comments

कथनी और करनी ( भारत धर्म निरपेक्ष देश या… )

Posted On: 14 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

3 Comments

जिन्दगी एक पहेली का ( अंतिम भाग )

Posted On: 11 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

2 Comments

छोटा राज्य विशुद्ध सियासत – jagran juncation forum

Posted On: 8 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

2 Comments

जिन्दगी एक पहेली – भाग २

Posted On: 27 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

3 Comments

जिन्दगी एक पहेली ( सत्य घटना पर आधारित कहानी ) भाग १

Posted On: 21 Sep, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

16 Comments

आरक्षण में प्रमोशन चाहिए या काबलियत

Posted On: 24 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

7 Comments

अंतर्मन की आवाज

Posted On: 15 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

6 Comments

शहादत का जिम्मेदार कौन ? ( सरकार , सेना या पाक )

Posted On: 10 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

3 Comments

तेलंगाना देश की जरूरत या —– ?

Posted On: 7 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

2 Comments

देश जाये भाड़ में कुर्सी हो हाथ में

Posted On: 2 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

0 Comment

इधर कुआँ उधर खाई

Posted On: 19 Jul, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

0 Comment

बद अच्छा बदनाम बुरा

Posted On: 13 Jul, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

social issues में

0 Comment

ये कैसा अधिकार

Posted On: 28 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

संगीतमयी दुनिया ( २१ जून वर्ल्ड म्यूजिक डे )

Posted On: 21 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

जंग

Posted On: 14 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

बचपन के दिन भुला ना देना

Posted On: 8 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

जीवन चलने का नाम

Posted On: 1 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

पत्थर दिल सनम

Posted On: 25 May, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 4.85 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

थैंक यू ( एक सत्य लघु कथा )

Posted On: 17 May, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

0 Comment

Page 1 of 3123»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

अगर बिहार और झारखंड की तरफ गौर किया जाये तो मैं पूँछती हूँ कि कहाँ है विकास और कहाँ है रोजगार ? अगर बिहार में रोजगार या विकास होता तो नक्सलबाद की समस्या से हमें नहीं उलझना पड़ता . जब २७ से २८ वां राज्य बना तो किसी को फायदा हुआ या नहीं पर वहाँ के मुख्यमंत्री मधु कोड़ा को सबसे ज्यादा फायदा हुआ जो विकास के नाम पर करोड़ो डकार गये . मध्य प्रदेश , बिहार झारखंड न जाने कितने ही राज्य पिछड़े राज्यों में आते हैं . नेता छात्रों को नौकरी का झांसा देती है और साथ में मिला लेती है . मैं आप सभी से एक सवाल पूंछती हूँ — कहाँ है नौकरी , कल भी बेरोजगारी थी और आज भी बेरोजगारी है और कल भी रहेगी . एक पार्टी के द्वारा दूसरी पार्टी को खत्म करने के लिए ही राज्यों के बंटवारे की मांगें उठती हैं . राज्य के बंटवारे का शिगूफा छोडकर वह इन्सान तो सबका भला बन जाता है और विरोधी पार्टी को जनता के सामने खड़ा कर देता है ताकि वह जनता को बता सके कि हम तो आपकी भलाई ले लिए राज्य का बंटवारा चाहते हैं पर विरोधी पार्टी होने ही नहीं दे रही . राज्यों के बंटवारे की मांगें भी स्वार्थ के लिए उठती हैं . न की जनता की भलाई के लिए अगर ऐसा होता तो बिहार में नक्सलवाद पैदा ही नहीं होता .सही सवाल उठती पोस्ट

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: ushataneja ushataneja

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

मनीसा, भला इतना सुन्दर चस्मा जनता को मेरी छोटी बहिन के अलावा भला और कौन दिखा सकता है ! कुछ दिनों पहले पासवान ने खुद कहा था की " इंडिया में आरक्षण के डाक्टरों से मैं क्यों इलाज कराऊं जब सरकार द्वारा मैं विदेशी उच्च कोटि के डाक्टरों से अपना इलाज करवा सकता हूँ" ! अब जनता को एक जूट होकर तमाम राजनीतिक पार्टियों पर जोर देकर उन्हें खुले शब्दों में बता देना चाहिए की आने वाले चुनाओं में जो भी पार्टी अपने चुनाव घोषणा पत्र में जनता को ये आश्वाशन देगी की आरक्षण को वे आगे बढ़ावा नहीं देंगे और आरक्षण वालों को आगे के पदोन्नति में कोई आरक्षण नहीं होगा ! सारी जनरल कैटेगरी के लोग आगे आने चाहिए और इन वोट बैंकों की राजनीति करने वाले तमाम पार्टियों से अपना पल्ला छुड़वा लिया जाना चाहिए ! २०१४ के चुनावों में यह अहम् मुद्दा होना चाहिए ! कही दिनों से तुम जागते रहो पर नहीं आई, एक नजर जरुर डाल देना ! शुभ कामनाओं के साथ आशीर्वाद !

के द्वारा: harirawat harirawat

बहिन, हमारे सैनिक सब तरह से परीक्षित हैं, हमारे पास सीमाओं पर सब तरह के मारक हथियार हैं, लेकिन हमारे राजनीतिकों की दखलंदाजी का खामियाजा सैनिकों को भरना पड़ता है ! जब भी चीन या पाकिस्तान सीमा पार करके अन्दर घूस कर अचानक फायरिंग करते हैं तो सैनिकों को दिल्ली से इजाजत लेनी पड़ती है, जबाब देने के लिए, हम शांती प्रिय लोग हैं इसलिए ! इस दौरान क्या से क्या हो जाता है ! इस हालत में ट्रेन सैनिक भी क्या करेगा, अब रक्षा मंत्री ने इजाजत देदी है तो पाकिस्तान या चीन को कोई भी कदम उठाने से पहले सोचना पडेगा ! हमारे सैनिक देश का अभिमान हैं और मौके की तलाश है ! पाकिस्तान को तहस नहस कर देंगे ! जय हिन्द जय भारत !

के द्वारा: harirawat harirawat




latest from jagran